गोवा शिपयार्ड लिमिटेड भर्ती २०२०

गोवा शिपयार्ड लिमिटेड भर्ती २०२०

time:2021-10-18 09:23:56 अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स Views:4591

चैंपियंस लीग ऑड्स गोवा शिपयार्ड लिमिटेड भर्ती २०२० betway केन्या जैकपॉट,fun88eu,lovebet 6446,lovebet जमी फोरम,lovebet टीवी,365 गेमिंग फोरम,बैकारेट बेटिंग फॉर्मूला,बैकारेट प्रोफेशनल प्ले,आईसीएसई कक्षा 10 . के लिए पांच नियमों का सर्वोत्तम नियम,क्या विदेशी फ़ुटबॉल जीत पर दांव लगाया जा सकता है,कैसीनो नियाग्रा,शतरंज ऊ,क्रिकेट पहेली किताब,डी कैसीनो मालिक,यूरोपीय कप फुटबॉल मैच के नियम,फुटबॉल कॉर्नर किक,जुआ मशीन,खुश किसान पीएनजी,इंडियाबेट हेल्पलाइन नंबर,जैकपॉट ड्राइंग,नवीनतम फुटबॉल सट्टेबाजी,लाइव रूले ऐप,लॉटरी रात परिणाम,m.lovebet मोबाइल जीआर,असली पैसे के लिए ऑनलाइन कैसीनो,ऑनलाइन गेम जोन,ऑनलाइन स्लॉट रियल मनी दक्षिण अफ्रीका,पोकर 63,पोकरदार यू,रूले टेबल लेआउट,रमी जैक,सबा वेबसाइट,स्लॉट्स एन बेट्स बोनस कोड,खेल तक,तीन पत्ती एक,सबसे सटीक Wynn उच्च स्कोर,आभासी क्रिकेट सिम्युलेटर लंदन,विलियम हिल स्टैंडबाय,star sports वन हिंदी लाइव,केरल लॉटरी रिजल्ट,खेल लॉटरी matka2,जोक हिंदी,पोकर फन,बेटा अब्दुल जरा बताओ,रेट्रो गार्डन,स्टेटस यूट्यूब, .अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स

इस साल इंक्रीमेंट घटकर 3.6 फीसदी पर पहुंच गए. 2019 में यह आंकड़ा 8.6 फीसदी रहा था.
अच्‍छी वेतनवृद्धि के लिए आपको अभी कम से कम दो साल इंतजार करना पड़ सकता है. 2021 और 2022 में सिंगल डिजिट में इंक्रीमेंट रहने के आसार हैं. इस मोर्चे पर स्थितियों के सामान्‍य होने में कुछ वक्‍त लग सकता है. जानकारों ने इस तरह का अनुमान जाहिर किया है.

कंपनसेशन एक्‍सपर्ट्स के अनुसार, 2022 से पहले इंक्रीमेंट के सामान्‍य होने के आसार नहीं हैं. डेलॉयट इंडिया वर्कफोर्स और इंक्रीमेंट ट्रेंड्स सर्वे के मुताबिक, इस साल इंक्रीमेंट या वेतन में बढ़ोतरी घटकर 3.6 फीसदी पर पहुंच गई. 2019 में यह 8.6 फीसदी रही थी. वेतनवृद्धि में भले अभी समय लगे. लेकिन, कंपनियां मेडिकल, इंश्‍योरेंस और होम ऑफिस के लिए इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर इत्‍यादि मुहैया कराकर नए तरह के बेनिफिट दे रही हैं.

एयॉन कंसल्‍टिंग इंडिया में सीईओ (परफॉर्मेंस रिवॉर्ड्स एंड ऑर्गनाइजेशन एफेक्‍टिवनेस) नितिन सेठी ने कहा, ''जहां तक विभिन्‍न सेक्‍टरों में वेतनवृद्धि का सवाल है तो शेष 2020 और 2021 सुस्‍त रहने वाले हैं.'' उन्‍होंने कहा कि 2022 से आर्थिक गतिविधियां दोबारा रफ्तार पकड़ सकती हैं. इससे बोनस और इंसेंटिव का दौर फिर शुरू हो जाएगा.

इसे भी पढ़ें : एसबीआई इस साल 14,000 लोगों की भर्ती करेगा

सैलरी कब अपने स्‍तर पर लौटेंगी, यह आर्थिक गतिविधियों के बहाल होने पर निर्भर करेगा. डेलॉयट के सर्वे में शामिल 75 फीसदी संस्‍थानों ने मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए वेतनवृद्धि में किसी तरह के अनुमान जाहिर करने से इंकार कर दिया.

इस साल नियमित वेतनवृद्धि करने वाली कंपनियां तीन तिमाहियों के असंतोषजनक प्रदर्शन के साथ अगले वित्‍त वर्ष में प्रवेश करेंगी. ये वेतनवृद्धि को लेकर ज्‍यादा मंथन करेंगी.

इसे भी पढ़ें : आईटी पेशेवरों के लिए खुशखबरी, कंपनियों में एक लाख से ज्‍यादा नौकरी के मौके

डेलॉयट इंडिया में पार्टनर आनंदोरूप घोष ने कहा कि इस साल जिन कंपनियों ने इंक्रीमेंट नहीं दिया है, वे भी इस मोर्चे पर कदम उठाने में देर कर सकती हैं. वे अपने कोर बिजनेस के प्रदर्शन में सुधार की साफ तस्‍वीर आने के बाद ही इस बारे में कोई फैसला लेंगी.

master5
master6

बढ़ सकते हैं बेनिफिट
अगले दो साल में कंपनियों का फोकस कंपनसेशन के बजाय बेनिफिट बढ़ाने पर हो सकता है. ज्‍यादातर कंपनियों के लिए वर्क-फ्रॉम होम अब 'न्‍यू नॉर्मल' बन गया है. ऐसे में ब्रॉडबैंड, फर्नीचर, स्‍टेशनरी इत्‍यादि के लिए अलाउंस के तौर पर बेनिफिट बढ़ सकते हैं. इन्‍हें कंपनसेशन पैकेज का हिस्‍सा बनाया जा सकता है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

इंक्रीमेंटडेलॉयल इंडियासैलरीएक्‍सपर्टसर्वेवेतनवृद्ध‍ि

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS
Fintech

Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS

10 mins read
Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.
Auto

Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.

12 mins read

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.एनालिटिक्‍स संबंधी जॉब्‍स निकालने वाली कंपन‍ियों में एक्‍सेंचर, एमफेसिस, कग्निजेंट टेक्‍नोलॉजी सॉल्‍यूशन, केपजेमिनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल टेक्‍नोलॉजी और कोलेबरा टेक्‍नोलॉजी प्रमुख हैं.अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स

आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.पेटीएम के सीएचआरओ रोहित ठाकुर ने ईटी को बताया कि पिछले तीन से चार महीनों में कंपनी ने करीब 700 लोगों की भर्ती की है. इन्‍हें ऑनलाइन रिक्रूट किया गया है.अगले साल 87% कंपनियां बढ़ाएंगी वेतन : सर्वे

आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस 5-7% कर्मचारियों की छंटनी करेगी

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
21 बजे online

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

lovebet v.5(1329)

रिपोर्ट में कहा गया है कि अनलॉक उपायों के बाद आवाजाही में सुधार से रियल एस्टेट क्षेत्र में नियुक्ति गतिविधियां 44 फीसदी सुधरी हैं.

भारतीय खेल प्राधिकरण भोपाल

अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.

पोकर यारी

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.

फुटबॉल सट्टेबाजी सिद्धांत

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी