ऑनलाइन कैसीनो क्यूबेक

ऑनलाइन कैसीनो क्यूबेक

time:2021-10-18 09:32:16 भारतीय वैज्ञानिक ने समुद्री सीप की कोशिका से ‘सेल कल्चर’ के जरिये बनाया मोती Views:4591

बैकरेट गेम स्टैंड-अलोन गेम डाउनलोड ऑनलाइन कैसीनो क्यूबेक 188bet साक,fun88 ऐप,lovebet 2021 APK,lovebet जी हिल 218,lovebet एस/पी 1/2,lovebetइंडिया,बैकारेट 450 परफ्यूम,बैकारेट लाइव,बेस्ट फाइव बर्नर गैस स्टोव,सबसे बड़ा बैकरेट,कैसीनो के खेल empik,शतरंज 0 रेटिंग,क्रिकेट 6 गेंद 6 छक्का रिकॉर्ड,क्रिकेट टीम के नाम,एस्पोर्ट्स न्यूट्रिशन जिंजी,फुटबॉल 5 आकार,फ़ुटबॉल.च avf,एच+ क्रिकेट,जुआ कैसे खेलें,लवबेट वैध है,जंगले rummy.com एक्सेस करने के लिए,लाइव कैसीनो न्यू जर्सी,लॉटरी शाम,लूडो निंजा लाइट APK,आधिकारिक रियल मनी फाइटिंग जमींदार,ऑनलाइन गेम हैक जनरेटर,ऑनलाइन रोबो,ऑनलाइन सट्टेबाजी की परिधि,पोकर रम्मी,रूले कैलकुलेटर ऑनलाइन मुफ़्त,रम्मी 365,रम्मीकल्चर मोबाइल नंबर,स्लॉट 18+,स्पोर्ट्स जीके क्विज,सिस्टम 4/6 लवबेट,सबसे अच्छा गेमिंग फोरम,यूनिबेट नौकरियां,सबसे विश्वसनीय और प्रतिष्ठित कैश नेटवर्क कौन सा है?,a स्टेटस डाउनलोड,ऑनलाइन पैसे बनाएं tv,क्रिकेट चा इतिहास मराठी,गोवा हनीमून पैकेज,तीन पत्ती स्टार डाउनलोडिंग,बरसात इंग्लिश,मछली पकड़ने का विशेषज्ञ,स्टेटस ओम नमः शिवाय, .भारतीय वैज्ञानिक ने समुद्री सीप की कोशिका से ‘सेल कल्चर’ के जरिये बनाया मोती

(राजेश अभय)

नयी दिल्ली, 17 अक्टूबर (भाषा) स्वतंत्र भारतीय वैज्ञानिक डॉ. अजय कुमार सोनकर ने मोती उत्पादन में अपने नये शोध से दुनिया को हैरत में डाल दिया है। अंडमान और निकोबार के वैज्ञानिक ने ‘सेल कल्चर’ के माध्यम से शीशे के फ्लास्क में मोती उत्पादन की तकनीक को सफलतापूर्वक विकसित करके ‘टिश्यू कल्चर’ के शोध में संभावनाओं के नये द्वार खोल दिये हैं। इससे पहले सोनकर ने दुनिया का सबसे बड़ा काला हीरा बनाने और भगवान गणेश के आकार का हीरा विकसित कर बड़ी उपलब्धियां हासिल की थीं।

सोनकर का कहना है कि उनका यह नया शोध वैश्विक मोती कल्चर उद्योग में बदलाव ला सकता है।

उनके इस शोध की प्रक्रिया और नतीजे अंतरराष्ट्रीय विज्ञान शोध पत्रिका- ‘‘एक्वाकल्चर यूरोप’ के ताजा अंक में प्रकाशित हुए है।

डॉ. सोनकर ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘इस शोध के परिणाम ने साबित किया है कि किसी भी जीव के इपीजेनेटिक (रहन-सहन) में बदलाव लाकर न सिर्फ दुर्लभ नतीजों को हासिल किया जा सकता है बल्कि आनुवांशिक विकृतियों का शिकार होने से भी बचा जा सकता है।’’

आनुवांशिक विकृतियों का आशय यह है कि यदि किसी को आनुवांशिक कारणों से कोई रोग होने की संभावना है तो रहन- सहन में सुधार करके उस संभावित रोग से बचा जा सकता है।

वर्ष-2020 की शुरुआत में उन्होंने अंडमान स्थित अपनी प्रयोगशाला से काले मोती बनाने वाले ‘पिंकटाडा मार्गेरेटिफेरा’ सीप में सर्जरी करके मोती बनाने के लिए जिम्मेदार अंग ‘मेंटल’ को उसके शरीर से अलग कर दिया। इसके बाद वह उस ‘मेंटल टिश्यू’ को फ्लास्क में विशेष जैविक वातावरण उत्पन्न करके अंडमान के समुद्र से लगभग 2,000 किलोमीटर दूर प्रयागराज स्थित अपने ‘सेल बायोलॉजी’ प्रयोगशाला में ले आये। इसमें विशेष बात यह थी कि इस पूरी प्रक्रिया में करीब 72 घंटे का समय लगा जिस दौरान शरीर से अलग होने के बावजूद ‘मेंटल टिश्यू’ जीवित एवं स्वस्थ रहे। यह अपने-आप में तकनीक का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

उसके बाद उस ‘मेंटल’ को प्रयोगशाला के विशेष जैविक संवर्धन वाले वातावरण में स्थानांतरित कर दिया गया। उन्होंने बताया कि पहली सफलता तब मिली जब कल्चर फ्लास्क में कोशिकाओं का संवर्धन होने लगा। तत्पश्चात ऐसे विशेष पोषक तत्वों की खोज की गई जिसके द्वारा कोशिकाओं की मोती बनाने के प्राकृतिक गुण को जागृत कराया गया। इस प्रकार समुद्र में रहने वाले सीप के कोख में पलने वाले मोती ने समुद्र से हजारों किमी दूर एक कल्चर फ्लास्क में जन्म ले लिया।

यह तकनीक विश्व में मोती उत्पादन के तौर-तरीके को न सिर्फ पूरी तरह बदलने की क्षमता रखती है बल्कि टिश्यू कल्चर जैसे अति आधुनिक विज्ञान के क्षेत्र में संभावनाओं के नये रास्ते खोल रही है।

सोनकर ने न सिर्फ दुनिया का सबसे कीमती मोती बनाया बल्कि मोती उत्पादन के दौरान सीपों की मृत्युदर को पूर्ण रूप से नियंत्रित करने की तकनीक भी विकसित की।

वह कहते हैं कि सीप का जीवन व चरित्र उन्हें प्रेरणा और शक्ति देता है। उन्होंने कहा, ‘‘जब एक सीप समुद्र के जल से अपना भोजन लेता है, तो इस प्रक्रिया में समुद्र के जल को शुद्ध करके समुद्र के तमाम जीवों के लिए अनुकूल वातावरण तैयार कर देता है और जब कोई बाह्य कण उसके शरीर में पीड़ा पहुंचाता है तब वह उसको रत्न (मोती) बना देता है।’’

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read
Air India sale: With the government exiting Maharaja’s cockpit, can Tatas pilot the airline to glory?
Aviation

Air India sale: With the government exiting Maharaja’s cockpit, can Tatas pilot the airline to glory?

14 mins read
How troubled Srei lenders gave INR9,300 crore sweet loans to companies linked to Kanorias
Under the lens

How troubled Srei lenders gave INR9,300 crore sweet loans to companies linked to Kanorias

8 mins read

नयी दिल्ली, 17 अक्टूबर (भाषा) खाद्य तेलों की लगातार तेज होती कीमतों पर अंकुश लगाने के मकसद से सरकार द्वारा बीते सप्ताह आयात शुल्क कम करने से दिल्ली तेल-तिलहन बाजार में सरसों, मूंगफली, सोयाबीन और सीपीओ सहित लगभग तेल- तिलहन के भाव गिरावट के रुख के साथ बंद हुए। बाजार के जानकार सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने दो अलग-अलग अधिसूचनाओं में कहा कि 14 अक्टूबर से प्रभावी आयात शुल्क और उपकर में कटौती 31 मार्च, 2022 तक लागू रहेगी। कच्चे पाम तेल, कच्चे सोयाबीननयी दिल्ली, 17 अक्टूबर (भाषा) शेयर बाजारों की दिशा इस सप्ताह कंपनियों के तिमाही नतीजों तथा वैश्विक संकेतकों से तय होगी। विश्लेषकों ने यह राय जताई है। इस समय शेयर बाजार रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं। सैमको सिक्योरिटीज में इक्विटी शोध प्रमुख येशा शाह ने कहा, ‘‘कंपनियों के तिमाही नतीजे इस सप्ताह शेयर बाजारों का रुख तय करेंगे। इस सप्ताह सभी की निगाह इनपर रहेगी। इसके अलावा दलाल स्ट्रीट की निगाह कंपनियों के प्रबंधन की भविष्य की आमदनी के अनुमान पर रहेगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसी उम्मीद है कि कंपनियां पिछली तिमाही से शुरू हुई अपनी रफ्तार को दूसरी तिमाहीभारतीय वैज्ञानिक ने समुद्री सीप की कोशिका से ‘सेल कल्चर’ के जरिये बनाया मोती

क्‍या आप 2021 में कार खरीदने की योजना बना रहे हैं? अगर हां तो कारदेखो डॉट कॉम के साथ मिलकर हम यहां आपको कुछ शानदार विकल्‍पों के बारे में बता रहे हैं. कार के ये मॉडल इस साल लॉन्‍च हो सकते हैं. हमने यहां 7 लाख रुपये तक की रेंज में सबसे अच्‍छी कारों को चुना है.नयी दिल्ली, 17 अक्टूबर (भाषा) वाहन ईंधन कीमतों में रविवार को फिर बढ़ोतरी हुई। पेट्रोल और डीजल दोनों के दाम 35-35 पैसे प्रति लीटर और बढ़ाए गए हैं। इससे अब वाहन ईंधन के दाम विमान ईंधन (एटीएफ) से एक-तिहाई ज्यादा हो गए हैं। साथ ही देशभर में पेट्रोल और डीजल के दाम अब नयी ऊंचाई पर पहुंच गए हैं। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार चौथे दिन 35 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि हुई है। सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलयम विपणन कंपनियों द्वारा जारी मूल्य अधिसूचना के अनुसार, पेट्रोल औरकंपनियों के तिमाही नतीजों, वैश्विक रुख से तय होगी बाजार की दिशा : विश्लेषक

योनो सुपर सेविंग डेज का पहला चरण फरवरी में संपन्‍न हुआ था. इस दौरान भी ग्राहकों को छूट पर 4 दिन के लिए खरीदारी का मौका मिला था. यह 4 फरवरी से 7 फरवरी तक चला था.पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं.अक्टूबर के पहले पखवाड़े में बिजली की खपत 3.35 प्रतिशत बढ़कर 57.22 अरब यूनिट पर

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
लॉटरी खेल का

रीइंश्‍योरेंस कंपनियों के रेट जीवन प्रत्‍याशा यानी लाइफ एक्‍सपेक्‍टेंसी पर आधारित होते हैं. यह एक लंबी अवधि का ट्रेंड होता है.

फुटबॉल लाइव स्कोर नेटवर्क

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं.

भाग्यशाली दिन कैसीनो दक्षिण अफ्रीका

(योषिता सिंह) न्यूयॉर्क, 17 अक्टूबर (भाषा) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को नए सिरे से तैयार किया जा रहा है, जिससे भारत में सभी निवेशकों तथा उद्योग के हितधारकों के लिए काफी अवसर हैं। सीतारमण ने शनिवार को उद्योग मंडल फिक्की तथा अमेरिका-भारत रणनीतिक मंच द्वारा आयोजित गोलमेज में वैश्विक उद्योग जगत के दिग्गजों तथा निवेशकों से कहा, ‘‘वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला के पुन:नियोजन तथा भारत के स्पष्ट रुख अपनाने वाले नेतृत्व की वजह से सभी निवेशकों तथा उद्योग के हितधारकों के लिए हमारे देश में काफी अवसर हैं।’’ सीतारमण वाशिंगटन डीसी की अपनी यात्रा के

बुकमार्क करने वाली कंपनी बोनस देने के लिए खाता खोलती है

क्‍या इस वैलेंटाइन डे पर अपने पाटर्नर को खुश करने के लिए आपने गिफ्ट सेलेक्‍ट कर लिया है? नहीं, तो यहां हम आपको ट्रेडिशनल गिफ्ट से अलग हटकर कुछ ऐसे तोहफों के बारे में बता रहे हैं जो शायद आपके साथी को खूब पसंद आए.

कैसीनो अद्वितीय

फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) का इस्तेमाल होता है. इस टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है.

संबंधित जानकारी
नकद शतरंज और कार्ड गेम के लिए आदान-प्रदान किया जा सकता है

नयी दिल्ली, 17 अक्टूबर (भाषा) अमेरिका की स्वच्छ ऊर्जा तथा मोबिलिटी स्टार्टअप पावर ग्लोबल की योजना अगले दो से तीन साल के दौरान भारत में लिथियम आयन बैटरी विनिर्माण इकाई तथा बैटरी अदला-बदली ढांचा लगाने के लिए 2.5 करोड़ डॉलर या 185 करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी। कंपनी उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में एक गीगावॉट घंटे की क्षमता का बैटरी संयंत्र लगा रही है। इसके अलावा कंपनी का लक्ष्य भारत में आठ लाख परंपरागत तिपहिया को रेट्रोफिट कर उन्हें इलेक्ट्रिक संस्करण में बदलने की योजना है। कंपनी ने

फ़ुटबॉल नवीनतम सट्टेबाजी URL

नयी दिल्ली, 17 अक्टूबर (भाषा) वित्त मंत्रालय जल्द ही निजीकरण के लिए तैयार केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (सीपीएसई) की जमीन और गैर-प्रमुख संपत्तियों के हस्तांतरण और बाद में मौद्रिकरण के लिए एक कंपनी बनाने को मंत्रिमंडल की मंजूरी लेगा। निवेश और लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कांता पांडेय ने कहा कि इन परिसंपत्तियों को संभालने के लिए कंपनी के रूप में एक विशेष इकाई (एसपीवी) की स्थापना की जाएगी, जिनका बाद में मौद्रिकरण किया जाएगा। पांडेय ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘हम एक ऐसी कंपनी के बारे में बात कर रहे हैं, जो कई सालों तक रहेगी, जो अतिरिक्त

गरम जानकारी
फुटबॉल लॉटरी qaper

(योषिता सिंह) न्यूयॉर्क, 17 अक्टूबर (भाषा) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को नए सिरे से तैयार किया जा रहा है, जिससे भारत में सभी निवेशकों तथा उद्योग के हितधारकों के लिए काफी अवसर हैं। सीतारमण ने शनिवार को उद्योग मंडल फिक्की तथा अमेरिका-भारत रणनीतिक मंच द्वारा आयोजित गोलमेज में वैश्विक उद्योग जगत के दिग्गजों तथा निवेशकों से कहा, ‘‘वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला के पुन:नियोजन तथा भारत के स्पष्ट रुख अपनाने वाले नेतृत्व की वजह से सभी निवेशकों तथा उद्योग के हितधारकों के लिए हमारे देश में काफी अवसर हैं।’’ सीतारमण वाशिंगटन डीसी की अपनी यात्रा के